कैट की परीक्षा में जूते पहनकर नहीं जा सकेंगे, ज्यादा पॉकेट वाली ड्रेसेस और ज्वेलरी से बचें

Indore Bureau - indoreexpress.com 27-Nov-2020 03:54 pm

इंदौर,। भारतीय प्रबंधन संस्थान (आइआइएम) में प्रवेश के लिए 29 नवंबर को होने जा रही कॉमन एडमिशन टेस्ट (कैट) में अब कुछ ही घंटे बचे हैं। आखिरी समय में विद्यार्थियों को परीक्षा के नियमों को बारीकी से पढ़ने की जरूरत है। अब जितना समय बचा है उसमें कुछ नया पढ़ने के बजाय रिवीजन और मॉक टेस्ट पर ध्यान देना चाहिए।
विशेषज्ञों की सलाह है कि मॉक टेस्ट में वही समय चुनें, जिस समय में विद्यार्थी द्वारा टेस्ट दिया जाना है। इस दौरान मास्क पहनकर मॉक टेस्ट देने की आदत बनाएं। चूंकि परीक्षा के दौरान लगातार मास्क पहनना होगा। इसके लिए अभी से विद्यार्थी तैयार रहें। तीन स्लॉट सुबह 8.30 से 10.30 बजे, दूसरा 12.30 बजे से 2.30 और शाम 4.30 बजे से 6.30 बजे के बीच टेस्ट लिए जाएंगे। टेस्ट शुरू होने के डेढ़ घंटे पहले विद्यार्थियों को रिपोर्टिंग करनी होगी। टेस्ट शुरू होने के 15 मिनट पहले प्रवेश बंद कर दिए जाएंगे। इसके लिए विद्यार्थी समय का विशेष ध्यान रखें। विद्यार्थियों को साथ में क्लीयर फोटो लगा एडमिट कार्ड, शपथ पत्र, ओरिजनल फोटो आइडी कार्ड ले जाना होगा। आइडी कार्ड में ध्यान रखें कि टेस्ट फॉर्म में जो नाम और जन्म तारीख भरी गई है, वही हों।
टेस्ट में कोरोना गाइडलाइन का पालन विद्यार्थियों को करना होगा। साथ में ग्लव्स और सैनिटाइजर की 50 एमएल की बोतल ले जाना होगी। मास्क पूरे समय पहनना होगा और शारीरिक दूरी का पालन करना होगा। परीक्षा विशेषज्ञ आकाश सेठिया का कहना है कि टेस्ट वाले दिन खाने पर भी नियंत्रण रखें। हल्का खाना ही खाकर जाएं। अभी से पानी और फ्रूट्स जूस लेना शुरू कर दें। इस बार कोरोना महामारी के कारण कईं विद्यार्थी अपने घर चले गए हैं। वे भी शहर में टेस्ट देने आएंगे। ऐसे विद्यार्थियों को भी कम से कम एक दिन पहले शहर पहुंच जाना चाहिए। इस दौरान यह भी ध्यान रखना है कि पूरी नींद लें। कई विद्यार्थी टेस्ट के कुछ दिन पहले भी रात-दिन तैयारी करते रहते हैं। ऐसे में उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती है और इसका असर परीक्षा केंद्र के अंदर देखने को मिलता है। विद्यार्थियों की एनर्जी कम हो जाती है। सर्दी का मौसम है। ऐसे में विद्यार्थी हल्के गर्म कपड़े पहनें। इसमें ध्यान रखे कि कपड़ों में ज्यादा पॉकेट न हो। परीक्षा में जूते पहनकर नहीं आ सकते। इसकी जगह चप्पल और सैंडिल का उपयोग किया जा सकता है। हैवी ज्वेलरी की भी परीक्षा में मनाही होती है। विशेषज्ञ ने बताया कि इस बार शहर के परीक्षा केंद्रों पर चार से पांच हजार विद्यार्थी शामिल होंगे।

ताज़ा खबर

अपना इंदौर